सोमवार, 22 अगस्त 2011

दिल का दर्द


दिल के दर्द की दवा लेने बाजार को हम गए, दुकान दर्दे दिल को बंद देखा और देखा दो लड़के वहां खड़े होकर रो रहे थे।
हमने पूछा तुम्हें क्या हुआ,कुछ हमें भी बताओं, हो सके तो थोड़ा और रो कर दर्दे गम़ सुनाओं।
जिससे हमारें आंखो में भी थोड़ा आंसू आ सके और तुम्हारा तन्हा दिल एक नया साथी पा सके।
ये सुनते ही वो बिलख-बिलख कर रोने लगे और बचे खुचे आंसू भी खोने लगे । और बोले हम तुम्हें अपनी हालत कैसे बताऐं जो हमारें साथ हो चुका उसे कैसे सुनाऐं।
फिर भी तुम जिद करते हो तो हम सुनाते है और तुमको अपना जख्मी सीना चीर कर दिखाते है।
हम एक लड़की से बहुत प्यार करते थे क्या बताऐं घर वालों से ज्य़ादा उस पर मरते थे।
हम सोचते थे कि वो भी हमसे प्य़ार करती थी छत पर खड़े होकर दीदार-ए-यार करती थी, पर ये एक धोखा था वह मुझे नहीं मेरे दोस्त को देखकर खुश हुआ करती थी।
यही पता चलने पर हमनें उससे कहा ये हमारी कमजोरी है हम अपनों से ही डरते है हम खुद ही नहीं जानते क्यों हम तुम पर मरते है दुनियां से न हम कभी डरे और न ही आज डरते है, खुदा कि कसम हम तुमसे बहुत प्यार करते है।
इस पर उसने हमसे कहा कि दर्दे दिल के इलाज की जरुरत है जिससें तुम आगे जी  सको और मुझसे बिछडने का गम पी सको ये सुनते ही हम इस दुकान की ओर दौड़े ,और इस दुकान को बंद देखकर जोर-जोर से रो पड़े अब आप ही बताईयें क्या इसमें हमारा कोई दोष है?
हमने कहा इसमें तुम्हारी कुछ नहीं गलती है लड़कीयां इसी तरह दिल को घायल करती है और फिर मलहम आकर मलती है।
ये सुनते ही उसने रोना थोड़ा कम किया और हमें भी अपने में से थोड़ा सा गम दिया हम घर आकर थोड़ा सा परेशान थे उन बालको कि इस दशा पर बडे हैरान थे फिर हमने सोचा कि शायद वे ही लड़कियों की बेवफाई से अंजान थे।

1 टिप्पणी:

  1. itni bhi koi bevafaa nai hoti ...........
    har ladki chhat pe aaeeee aur aapko dekheee ye uski wafaa nai hoti...........
    galti unn ladko ki hai jo soche ki vo unko dekhti thi ..
    uski kya galti hai jo kisi ko dekh k aakhen sekti thi...............
    BEHTARIN LIKHTEEE HAI AAP PAR SORRY MAI LADKIYO K BAARE ME SUNN K NAI REH SAKTI

    उत्तर देंहटाएं